Space in Hindi – अन्तरिक्ष की जानकारी(Antriksh ki Jankari)

space-in-hindi

स्पेस क्या है ? What is Space in Hindi

अंतरिक्ष क्या है – पूरी जानकारी

स्पेस या फिर आउटर स्पेस आप क्या जानना चाहते है? एक ही बात है। Space को हिंदी में अंतरिक्ष कहते है। एक ऐसा जगह जहाँ हवा नही है, देखने के लिए प्रकाश तो है लेकिन आप क्या देखेंगे- ग्रह, नक्षत्र, उल्कायें उपग्रह? ध्वनी(sound) के गमन के लिए माध्यम की आवश्यकता होती है, यहाँ कोई माध्यम(medium) नही है। आप अन्तरिक्ष में आवाज नही सुन सकते। यह निर्वात है। Space एक Vacuum(निर्वात) है।

क्या अंतरिक्ष एक खाली जगह है? अन्तरिक्ष एक खाली जगह नही है, क्योंकि तारों और ग्रहों के बीच में जो खाली जगह होती है, उसमें गैस और धूलों के कण भरी हुई होती है। इसके साथ ही अन्तरिक्ष में कई तरह के खतरनाक Radiation भी होते है। जैसे की- Infrared, सूर्य से आनेवाली Ultra-Violet Radiation, X-rays, Gamma rays, Cosmic rays इत्यादि। इसके साथ ही अंतरिक्ष में चुंबकिये क्षेत्र(magnetic field) भी बना हुआ होता है।

अंतरिक्ष क्या है – Definition of Space in Hindi

पृथ्वी से 100 किलोमीटर ऊपर जो जगह है उसे ही स्पेस(space) यानि अंतरिक्ष कहते है, यहाँ आप breathing नही कर सकते क्योंकि यहां हवा नही है। यहाँ पर जीवित रहने और साँस लेने के लिए आपको ऑक्सीजन गैस का सिलिंडर ले जाना होगा। खगोलीय पिंडो(celestial objects) जैसे ग्रह, उपग्रह, तारों, ग्लैक्सी के बीच जो जगह है उसे ही हमलोग स्पेस कहते है, जबकि हजारों, लाखों, अरबों, अनगिनत खगोलीय पिंडो(celestial objects) को मिलाकर एक ब्रह्माण्ड(Universe) बनता है।

अन्तरिक्ष काला क्यों दिखता है? इसका जवाब बिल्कुल आसान है। वायुमंडल के ख़त्म होने के बाद oxygen के अणुओं की संख्या कम हो जाती है, या फिर बिल्कुल नही रहती इस कारण से अंतरिक्ष हमें काला दिखाई पड़ता है।

अंतरिक्ष(space) कितना बड़ा है, ये कोई नही जनता? ये बहुत बड़ा हैं, हम सब जितना सोच सकते है उससे भी बड़ा। जानकारी के लिए एक बात और याद रखें की अन्तरिक्ष के दो celestial objects के बीच की दूरी को प्रकाश वर्ष(Light Year) में मापते है।

Layer of Space – अन्तरिक्ष के भाग

धरती के निकट जो space है उसे कई तरह के अलग-अलग category में बांटा गया है।

Geospace – यह अन्तरिक्ष का वह क्षेत्र है जो हमारे प्लानेट के सबसे नजदीक है। इसमें वायुमंडल(atmosphere) के उपरी सतह तथा magnetosphere आते है।

Interplanetary Space – सूर्य और ग्रहों के बीच का जो क्षेत्र हैं उसे Interplanetary Space कहते है। इस क्षेत्र में सूर्य से आनेवाली आवेशित कण गमन करती रहती है, जिसे सोलर विंड(solar wind) कहते है।

Interstellar Space – एक गैलेक्सी के भीतर उसके Planets और Stars के orbit और region के बाद जो खाली जगह होता है उसे इंटरस्टेलर स्पेस कहते है।

Intergalactic Space – यह स्पेस का वह क्षेत्र है जो दो गैलेक्सी के बीच होता है।


लेख: Space in Hindi – अन्तरिक्ष की जानकारी(Antriksh ki Jankari) आपको कैसी लगी, अपनी प्रतिक्रिया जरुर दें। वाकई में स्पेस के बारे में जानना हमेशा से ही दिलचस्प रहा है, आप जितना इसके बारे में जानना चाहोगे उतने बार इसमें जरुर कुछ नया जुड़ हुआ मिलेगा।

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *